Homeहिंदी NEWSस्वास्थ्यये हैं गलत फैसले लेने की 4 वजह, जानिए इनसे कैसे बचें

ये हैं गलत फैसले लेने की 4 वजह, जानिए इनसे कैसे बचें


क्या कभी आपने सोचा है कि हम एक दिन में कितने निर्णय लेते हैं? आप सोच रहे होंगे कि एक या दो. लेकिन ऐसा नहीं है, एक या दो तो वो निर्णय होते हैं जिसमें हम थोड़ा बहुत सोचते हैं. लेकिन बाकि तो हम पूरे दिन निर्णय लेते-लेते ही आगे बढ़ते हैं. हार्वर्ड बिजनस रिव्यू (Harvard Business Review) के अनुसार, एक आम आदमी जागते हुए हर घंटे लगभग 2 हजार निर्णय लेता है. इनमें ज्यादातर छोटे निर्णय होते हैं लेकिन कुछ ऐसे होते हैं, जिनमें बहुत ज्यादा सोच-विचार की जरूरत पड़ती है. ऐसे में किसी भी इंसान के लिए  लगातार हर बार सही निर्णय लेने की आदत विकसित होना बहुत जरूरी है. खासकर काम से जुड़े या ऑफिस टाइम के दौरान.

कई बार ऑफिस के लोगों की हानिकारक मानसिकता भी आपके निर्णय लेने की क्षमता कमजोर कर देती है. दैनिक भास्कर अखबार में छपी न्यूज रिपोर्ट में हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू के हवाले से खराब निर्णय लेने की कुछ वजहों के बारे में विस्तार से बताया गया है. इस रिपोर्ट में इससे बचने के कुछ टिप्स भी सुझाए हैं. आप भी जानिए क्या हैं ये….

फैसले लेने में थक जाना
बार-बार निर्णय लेने से स्वाभाविक रूप से हमारी निर्णय लने की क्षमता (decision making ability) थक-हार कर कमजोर पड़ जाती है. ये जरूरी है कि आप जितनी जल्दी हो सके, हर वो निर्णय अलग कर लें, जो आपको लगता है आपके लिए बेहद जरूरी है. जितनी जल्दी हो सके, अपने समय की प्राथमिकता तय करें. निर्णय उस वक्त लें, जिस वक्त आप अपने अंदर सबसे ज्यादा एनर्जी फ्लो महसूस करते हैं.

यह भी पढ़ें-
ऑफिस के ‘Bad Days’ में जल्दबाजी में ना लें कोई फैसला, जॉब छोड़ने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

विविध तरह के काम का असर 
रिसर्चर्स बताते हैं कि जब आप एक बार में या दो या दो से अधिक ज्ञान-संबंधित यानी नॉलेज रिलेटेड कामों पर फोकस करते हैं, तो आपकी लगभग 40% फैसला लेने की क्षमता घट जाती है. इस बात का ध्यान रखें कि अगर कभी आपको कोई बहुत जरूरी फैसला लेने की जरूरत पड़ती है, तो पहले उसके बारे में विचार करना शुरू करें. इसके बाद वक्त निकालकर पूरी प्रतिबद्धता के साथ गहराई से उस पर फोकस करें.

चीजें क्लियर न हों तो टाइम लें
अगर कभी आपको ऐसा लगता है कि किसी निर्णय पर इमोश्नली कमजोर पड़ सकते हैं, तो उस वक्त किसी भी तरह का रिएक्शन देने से बचना चाहिए. जब भी संभव हो, तब कंप्यूटर से कुछ देर के लिए दूरी बना लें और फोन को भी कुछ समय के लिए खुद दूर कर दें. थोड़ी देर का ब्रेक लें और जब आपको लगे कि आप अब आप ज्यादा स्पष्ट सोच पा रहे हैं, ज्यादा शांत हैं. तब किसी निर्णय पर पहुंचे.

यह भी पढ़ें-
कैसे इंटरव्यू में खुद को सबसे बेहतर दावेदार बना सकते हैं, जानिए 4 जरूरी टिप्स

कमजोर एनालिसिस
कई बार ऐसा होता है कि हम जितनी ज्यादा जानकारी लेने के इच्छुक होते हैं, उतनी ही देर हमें किसी निर्णय तक पहुंचने में हो जाती है. इसलिए केवल अपने काम की बेहद जरूरी जानकारी हासिल करने के बारे में ही सोचें. निर्णय लेने के लिए भी एक समय सीमा तय करना बहुत जरूरी है. फिर उस समय सीमा का ख्याल करते हुए ही आगे बढ़ें. जहां तक संभव हो सके डेडलाइन को भी तोड़ना नहीं चाहिए.

Tags: Lifestyle, Success tips and tricks, Tips and Tricks



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Today's feeds

Apple Watch Series 8 may feature a bigger display after all

Apple is looking to take advantage of the new flat design of the upcoming Watch Series 8. The company may introduce a new display...