Home Latest Feeds Technology News Attempt to hack phones of many leaders including Shashi Tharoor | एपल ने थ्रेट नोटिफिकेशन भेजा, जानें इसका मतलब और आईफोन को कैसे रखें सेफ

Attempt to hack phones of many leaders including Shashi Tharoor | एपल ने थ्रेट नोटिफिकेशन भेजा, जानें इसका मतलब और आईफोन को कैसे रखें सेफ

0
Attempt to hack phones of many leaders including Shashi Tharoor | एपल ने थ्रेट नोटिफिकेशन भेजा, जानें इसका मतलब और आईफोन को कैसे रखें सेफ

[ad_1]

नई दिल्लीएक दिन पहले

  • कॉपी लिंक

TMC सांसद महुआ मोइत्रा, कांग्रेस नेता शशि थरूर समेत विपक्षी दलों के कई लीडर्स और कुछ जर्नलिस्ट को मंगलवार सुबह एपल से एक नोटिफिकेशन मिला। इसमें कहा गया- एपल को लगता ​​​​है कि आपको स्टेट स्पॉन्सर्ड अटैकर्स निशाना बनाने की कोशिश कर रहे हैं। आपकी एपल ID से जुड़े आईफोन को रिमोटली कॉम्प्रोमाइज करने यानी हैक करने की कोशिश की जा रही है।

यदि आपका डिवाइस किसी स्टेट-स्पॉन्सर्ड अटैक से कॉम्प्रोमाइज हुआ है, तो वो आपका सेंसिटिव डेटा, कम्युनिकेशन और कैमरा और माइक्रोफोन तक एक्सेस कर सकते हैं। यह संभव है कि यह एक फॉल्स अलार्म हो, लेकिन इस चेतावनी को गंभीरता से लें।” ऐसे में यहां हम एपल के थ्रेट नोटिफिकेशन क्या है और अपने फोन को कैसे सेफ रख सकते हैं इसके बारे में बता रहे हैं।

इन्फॉर्म और असिस्ट करने के लिए थ्रेट नोटिफिकेशन
एपल की वेबसाइट के अनुसार थ्रेट नोटिफिकेशन उन यूजर्स को इन्फॉर्म और असिस्ट करने के लिए डिजाइन किया गया है, जिन्हें स्टेट-स्पॉन्सर्ड अटैकर्स की ओर से टारगेट करने की कोशिश की गई हो। इस नोटिफिकेशन में लॉकडाउन मोड इनेबल करने समेत फोन को सिक्योर करने के लिए क्या कदम उठाए जा सकते हैं इसकी भी जानकारी दी जाती है।

लॉकडाउन मोड डिवाइसेज को एक्सट्रीमली रेयर और हाइली सोफेस्टिकेटेड साइबर अटैक्स से बचाने में मदद करता है। जब लॉकडाउन मोड इनेबल होता है, तो आपका डिवाइस उस तरह काम नहीं करेगा जैसा वह आमतौर पर करता है। अटैक को रोकने के लिए कुछ ऐप्स, वेबसाइट और फिचर्स को लिमिटेड कर दिया जाता है।

अच्छी तरह से फंडेड होते हैं स्टेट-स्पॉन्सर्ड अटैकर्स
स्टेट-स्पॉन्सर्ड अटैकर्स अच्छी तरह से फंडेड और सोफिस्टिकेटेड होते हैं। उनके अटैक समय के साथ विकसित होते हैं। ऐसे हमलों का पता लगाना थ्रेट इंटेलिजेंस सिग्नल्स पर निर्भर करता है जो अक्सर इमपरफैक्ट और इनकम्प्लीट होते हैं। यह संभव है कि कुछ नोटिफिकेशन गलत हो, लेकिन हम इस बारे में जानकारी नहीं दे सकते कि किस कारण हमें ये नोटिफिकेशन भेजना पड़ा।

अगर हम इसका कारण बता देंगे तो अटैकर्स को डिटेक्शन फीचर से बचने के लिए अपने बिहेवियर को बदलने में मदद मिल सकती है। वहीं एपल नोटिफिकेशन असली है या नहीं यह वैरिफाई करने के लिए appleid.apple.com पर साइन इन करें। यदि Apple ने आपको कोई नोटिफिकेशन भेजा है, तो आपके साइन इन करने के बाद यह पेज के टॉप पर दिखाई देगा।

सिक्योटी के लिए तीन स्टेप्स फॉलो करें…

  • लेटेस्ट सॉफ्टवेयर में अपने डिवाइसेज को अपडेट करें, क्योंकि इसमें लेटेस्ट सिक्योरिटी फिक्सेज शामिल होते हैं।
  • डिवाइसेज को पासकोड से प्रोटेक्ट करें। एपल ID के लिए टु फैक्टर ऑथेंटिकेशन और मजबूत पासवर्ड यूज करें।
  • ऐप स्टोर से ही ऐप्स इंस्टॉल करें। अननोन सेंडर के लिंक या अटैचमेंट पर क्लिक न करें। स्टॉन्ग और यूनीक पासवर्ड यूज करें।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here