Monday, November 29, 2021
Homeहिंदी NEWSस्वास्थ्यHealth news hot stone massage can improve stress and anxiety lak

Health news hot stone massage can improve stress and anxiety lak


Health benefits of hot stone massage: पहले के जमाने में मालिश का चलन था. समृद्ध लोग रोजाना मालिश कराते थे. अब मालिश की जगह मसाज थेरेपी ने ले ली है. कहीं भी जाइए, हर जगह मसाज पार्लर (massage parlour) खुले हुए हैं. बॉडी को रिलेक्स (relax) फील कराने के लिए मसाज थेरेपी (massage therapy) गजब का काम करती है. मसाज भी कई तरह के होते हैं, लेकिन हॉट स्टोन मसाज (Hot stone Massage) की बात ही कुछ और है. हॉट स्टोन मसाज से कई तरह के फायदे (benefits) मिलते हैं. हॉट स्टोन मसाज को अल्टरनेटिव मेडिसिन (alternative medicine) का दर्जा प्राप्त है. हॉट स्टोन मसाज में गर्म पत्थर (hot stone) से मालिश की जाती है. इससे पूरी बॉडी में मांसपेशियों का खिंचाव कम होती है और रिलेक्स फील होता है. हॉट स्टोन मसाज मसल्स को मजबूत बनाती है.

हॉट स्टोन मसाज कैसे की जाती है
हेल्थलाइन की खबर के मुताबिक यूनिवर्सिटी ऑफ न्यू हेमिस्फेयर हेल्थ सर्विस (University of New Hampshire Health Services) ने हॉट स्टोन मसाज करने के लिए स्टोन के तापमान को 130 से 145 डिग्री पर गर्म रखने का मानक बनाया है.

हॉट स्टोन को कुछ खास जगहों पर लगाया जाता है. इसे करने के लिए मुलायम और नर्म पत्थरों को बॉडी के कुछ खास भागों जैसे रीढ़, पेट, छाती, चेहरा, हथेलियों और पैरों की उंगलियों के बीच में रखकर मसाज की जाती है. कुछ जगहों पर हॉट स्टोन मसाज के लिए स्वीडिश टेक्नोलॉजी का सहारा लिया जाता है. इस तकनीक में स्ट्रोक, वाइब्रेशन, सर्कुलर मूवमेंट आदि की मदद से मसाज दी जाती है.

हॉट स्टोन मसाज के फायदे (Benefits of Hot stone massage)

इसे भी पढ़ेंः विंटर में स्किन की देखभाल के लिए मक्खन का करें इस्तेमाल, बेजान त्वचा पर आएगा तुरंत निखार

मसल्स के तनाव को कम करती है
हॉट स्टोन मसाज के सबसे बड़ा फायदा यह है कि इससे मांसपेशियों के बीच में जो तनाव पैदा होता है, वह तनाव तुरंत कम हो जाता है. इससे मसल्स के दर्द से राहत मिलती है. यह ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने में मदद करती है और मांसपेशियों की ऐंठन को कम करती है.

इसे भी पढ़ेंः आंत की हेल्थ को फिट रखने के लिए अंगूर खाना है फायदेमंद: स्टडी

स्ट्रेस और एंग्जाइटी को कम करती है
अमेरिकन मसाज थेरेपी एसोसिएशन (American Massage Therapy Association ) के मुताबिक हॉट स्टोन मसाज स्ट्रेस और एंग्जाइटी से राहत दिलाती है. एक अध्ययन में पाया गया कि 10 मिनट का हॉट स्टोन मसाज कॉर्डियोवेस्कुलर जटिलताओं को कम करती है.

नींद में सुधार होता है

अच्छी नींद के लिए हॉट स्‍टोन मसाज थेरेपी का कोई जवाब नहीं. इससे पूरी बॉडी रिलेक्स हो जाती है जिससे रात में अच्छी नींद आती है.

ऑटोइम्यूनज डिजीज के लक्षण को कम करती है हॉट स्टोन मसाज
अध्ययन के मुताबिक ऑटोइम्यून की बीमारी के लक्षणों को कम करने में हॉट स्टोन मसाज बहुत कारगर साबित हो रहा है. इससे फाइब्रोमाइलजिया (fibromyalgia) बीमारी को जोखिम भी कम हो जाता है. यह दर्द की बीमारी है जो आसानी से खत्म नहीं होती. हॉट स्टोन मसाज से ऑर्थराइटिस के दर्द से भी राहत मिलती है.

इम्यूनिटी बूस्ट करती है
एक अध्यन में पाया गया है कि स्वीडिश हॉट स्‍टोन मसाज से इम्यूनिटी बूस्ट हो सकती है. यह मसाज इम्यूनिटी को बढ़ाती है और कई बीमारियों का उपचार भी करती है.

Tags: Health, Lifestyle





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Today's feeds

வாய்வழி புணர்ச்சி மூலம் எய்ட்ஸ் பரவுமா? எச்ஐவி/எய்ட்ஸ் பற்றி கூறப்படும் கட்டுக்கதைகள் என்ன தெரியுமா? | Common...

<!----> எச்ஐவி மரணத்தை ஏற்படுத்தும் கடந்த காலங்களில் மருத்துவ வசதிகள் அதிகமில்லாததால் எச்ஐவி-க்கு சிகிச்சை கிடைக்காமல் பலர் இறந்தனர். ஆனால் தற்போது மருத்துவ வசதிகள் முன்னேற்றமடைந்து உள்ளதால் எச்.ஐ.வி ஒரு சமாளிக்கக்கூடிய நாள்பட்ட நோயாக கருதப்படுகிறது. எச்.ஐ.வி-யால் பாதிக்கப்பட்ட ஆயிரக்கணக்கான மக்கள் எச்.ஐ.வி இல்லாதவர்களைப் போலவே வாழ்கின்றனர். எச்.ஐ.வி சிகிச்சையின் முன்னேற்றம் இதை சாத்தியமாக்கியுள்ளது. அதனால்தான், சிகிச்சையில் இருப்பது முக்கியம், மேலும் உகந்த, நீண்ட கால ஆரோக்கியத்திற்காக நோயறிதலுக்குப் பிறகு விரைவில் சிகிச்சையைத் தொடங்க வேண்டும். <!----> எச்.ஐ.வி-பாசிட்டிவ் நபர்கள் குழந்தைகளைப் பெற முடியாது எச்.ஐ.வி-பாசிட்டிவ் நபர்கள் குழந்தைகளைப் பெறலாம், ஆனால் அவர்கள் கர்ப்ப காலத்தில் ஆன்டிரெட்ரோவைரல் மருந்துகளுடன் சிகிச்சையளிக்கப்படாவிட்டால், சி-பிரிவு மூலம் குழந்தை பெற்றால் மற்றும்/அல்லது தாய்ப்பால் கொடுக்காவிட்டால், அவர்கள் தங்கள் குழந்தைகளுக்கு எச்.ஐ.வி பரவுவதைத் தடுக்கலாம். எச்.ஐ.வி தடுப்பு பற்றிய சரியான அறிவுடன், பெற்றோர்கள் தங்கள் குழந்தைகளுக்கு எச்.ஐ.வி பரவுவதை முற்றிலும் தவிர்த்து, பிறப்பிலிருந்தே தங்கள் குழந்தைகளை ஆரோக்கியமாக வாழ வழிவகுக்கலாம். <!---->...