Wednesday, December 8, 2021
Homeहिंदी NEWSस्वास्थ्यHealth news spotting during pregnancy know the reason deep

Health news spotting during pregnancy know the reason deep


Pregnancy Care: गर्भावस्थाI (Pregnancy) के दौरान अगर हल्का रक्तस्राव होता है, तो लोग डर जाते हैं. कई बार डरने की जरूरत नहीं होती है क्योंकि हल्की स्पॉटिंग (Spotting) होना आम बात है. जबकि अधिक मात्रा में स्पॉटिंग भारी विकार का संकेत हो सकता है. हर प्रेग्नेंट महिला को गर्भावस्था के दौरान स्पॉटिंग के कारणों के बारे में पता होना चाहिए और ऐसी समस्याओं से निपटने के लिए नियमित अंतराल पर अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए.

सबसे पहले ये जानें की स्पॉटिंग और ब्लीडिंग में अंतर् क्या है. स्पॉटिंग हल्के गुलाबी या भूरे रंग का खून  का हल्का धब्बा होता है. जो मासिक धर्म के छठवें या सातवें दिन के रक्तस्राव के समान होता है. अगर ब्लड का रंग गहरा लाल है और पैड की जरूरत पड़ रही है तो ये ब्लीडिंग है. दोनों ही अवस्था में डॉक्टर से संपर्क जरूर करें.

यह भी पढ़ें : जानें फर्टिलिटी ट्रीटमेंट के लिए अल्ट्रासाउंड स्कैन क्यों है जरूरी

स्पॉटिंग का कारण 

सेक्स हो सकती है वजह 

शारीरिक संबंध बनाने के बाद स्पॉटिंग हो सकती है. इस दौरान गर्भाशय ग्रीवा यानी सर्विक्स के पॉलीप्स का आकार बढ़ता है. गर्भावस्था के दौरान संभोग के बाद स्पॉटिंग होना बहुत ही सामान्य बात है.

प्लेसेंटा में बदलाव 

इस प्रकार का रक्त स्राव कोरियोन और प्लेसेंटा में परिवर्तन के कारण होता है. कोरियोन एक छोटी पतली झिल्ली होती है जो फीटस के आसपास होती है. आम तौर पर ये खुद बंद हो जाती है लेकिन डॉक्टर से सम्पर्क जरूर कर लें.

यह भी पढ़ें: Yoga Session: पेट की चर्बी कम करने और कमर की मासपेशियों को मजबूत बनाने के लिए करें नौकासन

डिलीवरी नजदीक आने पर 

जैसे ही डिलीवरी की तारीख नजदीक आती है, गर्भाशय ग्रीवा यानि सर्विक्स फैलने लगता है. इसे सर्विक्स डायलेशन भी कहते हैं. इसमें बलगम प्लग जैसा चिपचिपा म्यूकस प्लग आता सकता है और भारी मात्रा में  रक्त स्राव हो सकता है.

एक्टॉपिक प्रेग्नेंसी 

यह एक दुर्लभ मामला है, जब अंडा फैलोपियन ट्यूब में रुक जाता है, जो गर्भाशय के बाहर होता है. इसमें मतली, चक्कर आना, उल्टी या कमजोरी जैसे लक्षण हो सकते हैं. इसका कारण एक्टोपिक सर्जरी, फैलोपियन सर्जरी, या पेल्विक में सूजन वजह हो सकती है. 

पैप सिमर टेस्ट 

कई बार पैप सिमर टेस्ट के बाद भी ब्लड आता है. ऐसे में जरूरी है की लगातार अपने डॉक्टर के संपर्क में रहें.(Disclaimer:इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Today's feeds