HomeLatest FeedsTechnology News'Kristim' becomes India's first unicorn startup | यूनिकॉर्न बनने वाला भारत का...

‘Kristim’ becomes India’s first unicorn startup | यूनिकॉर्न बनने वाला भारत का पहला AI-स्टार्टअप बना ‘कृत्रिम’: ओला-इलेक्ट्रिक के फाउंडर भाविश अग्रवाल की कंपनी डेटा सेंटर और सुपर-कंप्यूटर भी बनाएगी


नई दिल्ली2 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

ओला कैब और ओला इलेक्ट्रिक के फाउंडर भाविश अग्रवाल का AI स्टार्टअप ‘कृत्रिम’, यूनिकॉर्न बनने वाला भारत का पहला AI स्टार्टअप बन गया है। इसका मतलब ‘कृत्रिम’ की वैल्यूएशन 1 बिलियन डॉलर यानी करीब ₹8,312 करोड़ हो गई है।

15 दिसंबर 2023 को भाविश अग्रवाल ने इस स्टार्टअप की शुरुआत की थी। कंपनी ने बताया है कि आने वाले समय में AI ईकोसिस्टम के लिए सर्वर और सुपर-कंप्यूटर भी बनाएगी।

इसके अलावा कंपनी लार्ज-लैंग्वेज-मॉडल पर आधारित ‘कृत्रिम’ के लिए डेटा सेंटर भी डेवलप कर रही है। भाविश अग्रवाल ने कहा, ‘भारत को अपना खुद का AI सिस्टम बनाना होगा। हम देश का पहला फुली AI कंप्यूटिंग स्टैक यानी AI इकोसिस्टम बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’

लार्ज लैंगवेज मॉडल है कृत्रिम
कृत्रिम एक लार्ज लैंग्वेज मॉडल (LLM) है। इसे डीप लर्निंग एल्गोरिदम और बड़े डेटासेट के साथ ट्रेन किया जाता है, जो उसे ट्रांसलेट करने, अनुमान लगाने के अलावा टेक्स्ट और अन्य कंटेंट को जनरेट करने के काबिल बनाता है।

भाविश ने अप्रैल में बनाई थी AI कंपनी
भाविश अग्रवाल ने अप्रैल 2023 में कृत्रिम एसआई डिजाइन्स प्राइवेट लिमिटेड नाम की आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कंपनी बनाई थी। अग्रवाल के अलावा, कृष्णमूर्ति वेणुगोपाला टेनेटी कंपनी के एकमात्र अन्य डायरेक्टर हैं।

कृत्रिम के लॉन्च इवेंट के दौरान भाविश अग्रवाल (बाएं) और उनकी टीम।

कृत्रिम के लॉन्च इवेंट के दौरान भाविश अग्रवाल (बाएं) और उनकी टीम।

22 भारतीय भाषाओं को समझ सकता है ‘कृत्रिम’
लॉन्च इवेंट के दौरान, अग्रवाल ने ‘कृत्रिम’ से पावर्ड AI चैटबॉट दिखाया जो चैटजीपीटी और बार्ड की तरह सवालों के जवाब देता है। यह 22 भारतीय भाषाओं को समझ सकता है और हिंदी, तेलुगु, मराठी जैसी 10 भाषाओं में लेख या आर्टिकल तैयार कर सकता है।

भारतीय भाषा और डेटा पर बना है ‘कृत्रिम’
नया टूल ‘भारत का पहला फुल-स्टैक AI’ के रूप में कैटगराइज किया गया है। कंपनी का दावा है कि कृत्रिम स्थानीय भारतीय ज्ञान, भाषाओं और डेटा पर बनाया गया है। अग्रवाल ने इस टूल को सभी के लिए फायदेमंद बताया है। हालांकि, अभी ये क्लियर नहीं है कि किस तरह ये टूल काम करेगा और क्या-क्या सुविधाएं आम लोगों को देगा।

भाविश अग्रवाल ने अपने AI मॉडल का डेमो दिया था। चैटबोट से एक सवाल पूछा गया जिसका जवाब उसने दिया।

भाविश अग्रवाल ने अपने AI मॉडल का डेमो दिया था। चैटबोट से एक सवाल पूछा गया जिसका जवाब उसने दिया।

2022 में ChatGPT को पब्लिकली अनवील किया था
सबसे पहले OpenAI ने नवंबर 2022 में दुनिया के लिए ChatGPT अनवील किया था। इस AI टूल ने तेजी से लोकप्रियता हासिल की है। म्यूजिक और कविता लिखने से लेकर निबंध लिखने तक, ChatGPT बहुत सारे काम कर सकता है। यह एक कन्वर्सेशनल AI है। एक ऐसा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जो आपको इंसानों की तरह जवाब देता है।

भारत में पहला हिंदी LLM ‘ओपन-हाथी’ भी लॉन्च
भारत स्मॉल और कॉस्ट एफिशिएंट आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम डेवलप कर पर ज्यादा फोकस कर रहा है। एक महीने पहले जनरेटिव AI स्टार्टअप ‘सर्वम’ ने ओपन-सोर्स मॉडल का उपयोग करके अपना पहला हिंदी लार्ज लैंग्वेज मॉडल ‘ओपन-हाथी’ लॉन्च किया है। इस स्टार्टअप को कुछ दिनों पहले लाइटस्पीज वेंचर पार्टनर्स और बिलेनियर विनोद कोसला से करीब 341 करोड़ रुपए का निवेश मिला है।

यूरोप में फ्रांस की मिस्ट्रल AI के लिए काफी इन्वेस्टमेंट मिल रहा है। एक साल पहले फाउंडेड इस AI टेक्नोलॉजी की वैल्यूएशन 2 बिलियन डॉलर से ज्यादा हो गई है। इसके अलावा संयुक्त अरब अमीरात अपने फाल्कन मॉडल को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहा है।

खबरें और भी हैं…
Mr.Mario
Mr.Mario
I am a tech enthusiast, cinema lover, and news follower. and i loved to be stay updated with the latest tech trends and developments. With a passion for cyber security, I continuously seeks new knowledge and enjoys learning new things.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read